Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत
Sunday, May 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरलातेहार

लातेहार: तुबेद कोल माइंस के प्रभावित रैयतों व कंपनी के अधिकारियों की बैठक, दस सूत्री मांगों पर चर्चा

लातेहार : सदर प्रखड स्थित तुबेद कोल माइंस के प्रभावित रैयतों व डीवीसी कंपनी के अधिकारियों की एक बैठक शनिवार को डीही पंचायत सचिवालय में हुई। बैठक की अध्यक्षता मुखिया संदीप उरांव ने की। बैठक में डीवीसी कंपनी के ईडी माइनिंग सुधीर मुखर्जी व एसी माइनिंग मनीष कुमार उपस्थित थे।

बैठक में रैयतों के दस सूत्री मांगों पर चर्चा हुई। जिसमें रैयतों ने कहा कि यदि कंपनी हमारी दस सूत्री मांगों पर विचार करती है तो हमलोग कंपनी को हर संभव सहायता करने के लिए तैयार हैं।

रैयतों ने कहा कि कंपनी को अपने पुराने रवैये को छोड़ना होगा और रैयतों से मिल कर उनकी समस्याओं को सुने। दलाल व बिचौलियों के चक्कर में न पड़े, तभी इस क्षेत्र में कोल माइंस खुल पायेगा।

आगे कहा कि कंपनी रैयतों के प्रतिनिधि व पंचायत प्रतिनिधि मंडल के साथ मिलकर प्रभावित स्थल पर भूमि का सत्यापन कराये। ताकि रैयतों को कार्यालयों का चक्कर नहीं लगाना पड़े। हाल सर्वे की खामियों को दूर कर जोत-कोड़ व कब्जा के हिसाब से भूमि का भुगतान करे।

रैयतों ने कहा कि कंपनी भेदभाव को छोड़ कर सभी को एक समान भुगतान करे। भूदान की जमीन को पंचायत प्रतिनिधिमंडल से सत्यापन कराकर भुगतान किया जाय। गैर मजरूआ, वन भूमि व बिहार सरकार हाल सर्वे रिपोर्ट की खामियों को दूर कर असली रैयतों को चिन्हित कर भुगतान किया जाय।

बैठक में विस्थापन, पुनर्वास, पेयजल व नौकरी समेत कई अन्य मामलों पर चर्चा की गयी। अंत में सभी दस प्रस्ताव को पढ़कर सुनाया गया। जिसपर कंपनी के अधिकारियों ने हस्ताक्षर करते हुए कहा कि कंपनी सभी मामलों पर सहमत है।

बैठक में कांग्रेस के मीडिया प्रभारी पंकज तिवारी, उमर आलम, बॉबी हुसैन, सुजीत सिंह, मनोज सिंह, लालधारी उरांव, राजेश भुइयां, गोविन्द भुइयां, रहमतुल्ला अंसारी समेत कई रैयत व ग्रामीण उपस्थित थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *