Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

सरेंडर करने से पहले ही माओवादियों ने सब-जोनल कमांडर की कर दी ह्त्या

'

रांची : सरेंडर करने से पहले ही सब-जोनल कमांडर गुलशन सिंह मुंडा उर्फ गड़ी मुंडा उर्फ सुभाष मुंडा की सेंट्रल कमेटी के सदस्य अनल दा ने हत्या कर दी। गुलशन पर 5 लाख रुपये का इनाम था। हत्या के आरोपी शीर्ष नक्सली अनल दा पर एक करोड़ का इनाम है। यह जानकारी पुलिस मुख्यालय और विशेष शाखा के अधिकारियों को भी मिली है। लेकिन शव नहीं मिलने के कारण पुलिस अधिकारियों ने अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

इसलिए पुलिस ने गुलशन को फरार नक्सलियों की लिस्ट में ही रखा है। इधर नक्सलियों ने गुलशन की हत्या का दावा भी नहीं किया है। पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार उन्हें जानकारी मिली है कि हत्या के बाद गुलशन के शव को भी दफना दिया गया है। लेकिन कहां, इसे लेकर कुछ भी साफ नहीं हो पाया है। गुलशन के पिता का नाम सोमरा मुंडा है और वह बुंडू के बारूहातू का रहने वाला था।

माओवादी गुलशन का भाई सुरेश मुंडा भी जोनल कमांडर के पद पर था। सरकार की ओर से उस पर 10 लाख रुपये का इनाम घोषित था। लेकिन वह अपनी बेटी के अनुरोध के बाद 1 मार्च को रांची पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। उसके साथ एरिया कमांडर लोद्रो लोहरा उर्फ सुभाष ने भी आत्मसमर्पण किया।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुरेश ने सरेंडर करने के बाद अपने भाई को मुख्यधारा में लौटने को कहा था, जिससे प्रभावित होकर गुलशन भी आत्मसमर्पण करने की तैयारी कर रहा था। लेकिन इसी बीच शीर्ष नक्सलियों को उसके आत्मसमर्पण करने की योजना की जानकारी मिली और उसकी ह्त्या कर दी गयी।