Breaking :
||BREAKING: बालूमाथ में मधुमक्खियों ने फिर किया हमला, एक आदिवासी महिला की मौत, छह घायल||लातेहार: पातम-डाटम जल प्रपात घूमने आये दो युवकों की नहाने के दौरान नदी में डूबने से मौत||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर

झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट

'

मुख्य सचिव 18 अगस्त को सभी उपायुक्तों के साथ करेंगे बैठक

रांची : राज्य में सूखे की स्थिति का जायजा लेने के लिए हर जिले में टीमें काम कर रही हैं. कृषि मंत्री बादल के मुताबिक टीम रविवार से अपनी रिपोर्ट सौंपना शुरू कर देगी। इस रिपोर्ट के आधार पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह 18 अगस्त को सभी उपायुक्तों के साथ बैठक कर सूखे की स्थिति पर रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट के आधार पर केंद्र सरकार की ओर से राज्य के प्रभावित प्रखंडों को सूखाग्रस्त घोषित करने का प्रस्ताव भेजा जाएगा।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

हालांकि मुख्य सचिव की बैठक के बाद आपदा प्रबंधन विभाग के मंत्री बन्ना गुप्ता समीक्षा करेंगे। तीसरे चरण में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कृषि मंत्री की मौजूदगी में बारिश, रोपण, मिट्टी की नमी से संबंधित रिपोर्ट की समीक्षा करेंगे। वस्तुस्थिति पर विचार करने के बाद केंद्र सरकार से प्रभावित प्रखंडों को सूखा घोषित कर किसानों को मुआवजे देने की मांग राज्य सरकार करेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कृषि मंत्री बादल के मुताबिक, राज्य के कई हिस्सों में पिछले चार दिनों से मानसून सक्रिय है और अगले तीन-चार दिनों तक बारिश की संभावना है। इस बीच, संताल परगना, पलामू, उत्तरी छोटानागपुर के करीब सात-आठ जिलों में कम बारिश की स्थिति बनी हुई है। सरकार को अब तक विभिन्न जिलों से प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार पलामू, गढ़वा और लातेहार के अधिकांश प्रखंडों की स्थिति बेहद खराब है और यहां सूखे से इंकार नहीं किया जा सकता।