Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

आसमान से बरस रही आग, ‘नौतपा’ के कहर से जल रहा झारखंड, जानें क्या है ‘नौतपा’ और कब तक रहेगा असर

नौतपा 2024 का असर

रांची : राज्य नौतपा कहर से तप रहा है। आसमान से बरसती आग से मनुष्य ही नहीं, पशु-पक्षी भी परेशान हैं। राज्य के 17 जिलों में तापमान 40 के पार पहुंच चुका है। पलामू में 47.8 डिग्री तापमान पहुंच गया है। राजधानी रांची में गुरुवार दस बजे के बाद सड़कों पर निकलना दूभर हो गया। हालांकि शाम चार बजे के बाद आसमान में बादल छाने से थोड़ी राहत मिली।

पंडित मनोज पाण्डेय ने बताया कि ऐसे मौसम को नौतपा कहा जाता है। नौतपा में आंधी-बारिश का होना बड़ी बात नहीं है। पर नौतपा का प्रकोप भी बरकरार रहता है। उन्होंने बताया कि नौतपा 25 मई से शुरू हुआ है, इसका प्रकोप दो जून तक रहेगा। जैसे-जैसे दिन गुजरेंगे तापमान में भी बढ़ोतरी होती जायेगी। उन्होंने बताया कि इस दौरान सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है। इससे सूर्य की किरणें सीधा पृथ्वी पर पड़ती है, जिस कारण लोगों को तेज धूप का सामना करना पड़ता है।

उन्होंने बताया कि नौतपा के कई फायदे बताये जाते हैं। इससे सांप-बिच्छू और चूहे पर नियंत्रण रहता है। फसल को नुकसान पहुंचाने वाले कीट और टिड्डियों के अंडे नष्ट हो जाते हैं। बुखार लाने वाले जीवाणु का भी खात्मा हो जाता है। आंधी का प्रकोप भी नहीं रहता। नौतपा के बाद अच्छी बारिश होती है, जो खेती-बाड़ी में सहायक होती है।

नौतपा 2024 का असर