Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

पारा शिक्षकों को 50 फीसदी आरक्षण के प्रावधान को झारखंड हाई कोर्ट में चुनौती, कोर्ट ने राज्य से मांगा जवाब

रांची : सहायक प्रोफेसर नियुक्ति नियमावली में पारा शिक्षकों को 50 फीसदी आरक्षण के प्रावधान को झारखंड हाईकोर्ट में चुनौती दी गयी है। बीआरपी और सीआरपी बहादुर महतो व अन्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए झारखंड हाई कोर्ट ने राज्य सरकार और झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (जेएसएससी) को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। आज इस याचिका पर चीफ जस्टिस संजय कुमार मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच में सुनवाई हुई। अगली सुनवाई 31 अगस्त को होगी।

याचिका में जेएसएससी को भी प्रतिवादी बनाया गया है। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता अमित कुमार तिवारी उपस्थित हुए। उन्होंने कोर्ट को बताया कि सहायक प्राध्यापक नियुक्ति नियमावली 2022 में शिक्षा विभाग में संविदा पर कार्यरत कर्मियों को 50 फीसदी आरक्षण की सुविधा दी गयी है। बाद में संविदा कर्मियों के लिए आरक्षण समाप्त कर दिया गया और नियमों में संशोधन किया गया। राज्य सरकार ने संशोधित सहायक प्रोफेसर भर्ती नियमावली 2023 बनायी है, जिसके तहत अब केवल पारा शिक्षकों को सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में 50 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रावधान है।