Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

मनिका में हाथियों ने दूसरे दिन भी मचाया उत्पात, 3 मवेशियों की पटक कर ली जान, दो घायल

खलिहान में रखे 5 किसानों के लगभग 40 क्विंटल धान को खाया और बर्बाद किया

झुंड में चल रहे है हाथी

लातेहार : मनिका थाना क्षेत्र के मटलोंग पंचायत के माइल गांव स्थित कंनडेरा टोला में हाथियों के झुंड ने जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान हाथियों ने तीन मवेशियों को पटक कर मार डाला और दो मवेशियों को घायल कर दिया। वहीं खलिहान में रखे कई एक क्विंटल धान को खाया और बर्बाद कर दिया।

कंनडेरा टोला निवासी उमेश सिंह के खलिहान से लगभग 4 क्विंटल धान को खाकर बर्बाद किया। वही रामसेवक सिंह के एक बैल को पटक पटक कर मार डाला और पास ही खेत में लगे आलू की फसल को पूरी तरह से नष्ट कर दिया।

इसी गांव के रविंद्र सिंह के एक बैल को पटक कर घायल कर दिया जिससे बैल का पैर टूट गया है। वही कोलकान सिंह के 1 गाय को पटक कर मार डाला और दूसरी गाय को बुरी तरह से घायल कर दिया और खलिहान में रखे धान को बर्बाद कर दिया। ग्रामीण राम अवतार सिंह के एक बैल को भी पटक-पटक कर मार डाला और खलिहान में रखे लगभग 25 क्विंटल धान को बर्बाद कर दिया।

ग्रामीणों ने बताया कि जुंगुर गांव की तरफ से 15-16 की संख्या में आए हाथियों के झुंड ने एकाएक गांव में आये और मवेशियों पर हमला कर दिया। मवेशियों को तो मारा ही साथ में धान व फसलों को बर्बाद कर हमारी मेहनत पर भी पानी फेर दिया।

सूचना के बाद वन विभाग की टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर घटना का मुआयना किया और सरकारी प्रावधान के अनुसार मुआवजे दिलाने की बात कहीं।

वनपाल ललन उरांव ने बताया कि गांव में रात्रि के समय लोग सतर्क रहें और हाथी आने की आहट पाकर मसाल और पटाखा छोड़कर हाथियों को भगाने का प्रयास करे। गांव में महुआ का शराब नहीं बनाएं, नहीं तो शराब की गंध पाकर हाथी गांव की तरफ प्रवेश करते हैं।

मौके पर समाजसेवी कामेश्वर सिंह, नंदकिशोर यादव, राज किशोर सिंह, गुड्डू सिंह ने जिले के उपायुक्त से मुआवजे की मांग की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *