Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरउत्तरी छोटानागपुरझारखंड

पुलवामा में शहीद जवान अजय का पार्थिव शरीर पहुंचा पैतृक गांव, अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, भारत माता के जयकारों से गूंजा इलाका

सुख चुके थे पत्नी के आंख से आसू

गिरिडीह : पुलवामा के अवंतिपुरा में आतंकियों और सुरक्षा बलो के मुठभेड़ में शहीद हुए गिरिडीह के देवरी के ढेंगाड़ीह के 28 साल के शहीद जवान अजय राय का शव जम्मू कश्मीर से वायु सेना के हेलीकॉप्टर से रविवार की सुबह रांची हवाई अड्डा पहुंचा। जहा से शहीद जवान के पार्थिव शरीर को रांची सीआरपीएफ 135 बटालियन के असिस्टेंट कमांडेंट सुभाष चन्द्र के नेतृत्व में रांची हवाई अड्डा से सेना की गाड़ी से गिरिडीह के देवरी के लिए रवाना हुआ।

रांची से गिरिडीह आने के क्रम में भारत माता के इस वीर सपूत का पार्थिव शरीर जब बगोदर से गुजरते हुए जमुआ पहुंचा। तो दस हजार से अधिक की भीड़ गिरिडीह के बेटे के पार्थिव शरीर के साथ देवरी के लिए चल पड़ी। हर युवक के हाथ में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा और भारत माता के जयकारे से पूरा रास्ता गूंजता रहा।

एक तरफ असमय जवान अजय राय को खोने का गम, तो दूसरी तरफ भारत माता की रक्षा के लिए शहीद हुए सीआरपीएफ जवान अजय राय का गर्व दोनो ही पूरे देवरी को जोश से भी भरे हुए था। लिहाजा, जिस किसी ने सुना की देवरी का वीर सपूत का पार्थिव शरीर आ रहा है। वो देवरी के ढेंगाडीह गांव जुटना शुरू हो गया।

इस दौरान सीआरपीएफ के जवानों ने रिवाज के बीच तिरंगे में लिपटे उनके पार्थिव शरीर को कांधा देते हुए वाहन से नीचे उतारा, और घर तक पहुंचाया। जबकि पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन और श्रद्धांजलि देने केंद्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी, जमुआ विधायक केदार हाजरा, गिरिडीह एसपी दीपक कुमार शर्मा, एसडीपीओ मुकेश महतो, भाजपा नेता दिनेश यादव समेत कई नेता और अधिकारी पहुंचे थे।

सीआरपीएफ की गाड़ी में अजय राय का पार्थिव शरीर और फूलो से सजा वाहन और उनका फोटो दस हजार की भीड़ को ये एहसास कराने के लिए काफी था कि अजय राय की मौत सिर्फ एक मौत नही। बल्कि देश के लिए शहादत हुआ गांव का एक बेटा है।

लिहाजा, पार्थिव शरीर के गांव में प्रवेश करते ही भारत माता के जयकारे लगने के साथ शहीद अजय राय अमर रहे का नारा लगना भी शुरू हो गया। पार्थिव शरीर से सजा सीआरपीएफ का वाहन गांव घुसा, तो क्या परिवार और क्या ग्रामीण, हर किसी की आंखे नम दिखी। जवान बेटे का शव जब पिता राजेंद्र राय ने देखा तो वो बेटे के शव से लिपट कर रोने लगे। जबकि शहीद अजय की पत्नी करिश्मा कुमारी के आंख के आसू सुख चुके थे, जो एक बार तो पति का शव देख कर रो पड़ी, लेकिन शहीद अजय के दो छोटे बेटे ने अपनी मां के आंख से आसू छीन लिया था।

इस दौरान जवान अजय की पत्नी करिश्मा और पिता को हिम्मत देने खुद केंद्रीय मंत्री अन्नपूर्णा और सहायक कमांडेंट सुभाष चन्द्र आगे आये और दोनो को हिम्मत दिलाया। कुछ देर के बाद शहीद जवान की अंतिम यात्रा शुरू हुई। गांव के मुक्तिधाम में उनके पार्थिव शरीर को उनके बड़े भाई मनोज राय ने मुखाग्नि दी।