Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

केंद्र की झारखंड को चेतावनी, कहा- डीवीसी का बकाया चुकाओ, नहीं तो जारी रहेगी बिजली कटौती

रांची: झारखंड सरकार और केंद्र की बिजली को लेकर खींचतान सुलझने का नाम नहीं ले रही है। केंद्र ने गुरुवार को झारखंड सरकार को साफ शब्दों में चेतावनी दी और कहा कि जब तक झारखंड डीवीसी का बकाया नहीं चुकाता तब तक डीवीसी की बिजली कटौती जारी रहेगी।

जेबीवीएनएल के अधिकारियों के मुताबिक अलग-अलग जिलों में बिजली गुल या नुकसान को ध्यान में रखकर बिजली कटौती की जा रही है। ऐसे इलाकों में जहां बिजली कटौती अधिक होती है, इन इलाकों में बिजली कटौती ज्यादा हो रही है। इस संबंध में कोई लिखित आदेश जारी नहीं किया गया है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

लेकिन सभी उपकेंद्रों में बहाल इंजीनियरों को मौखिक आदेश दे दिए गए हैं। ज्ञात हो कि बिजली गुल होने का मतलब ऐसे इलाकों से है जहां से कम बिजली बिल वसूला जाता है। ऐसे फीडरों से ही बिजली काटी जा रही है।

राजधानी रांची में छह घंटे तक बिजली कटौती हुई है। उच्च बिजली कटौती वाले क्षेत्र रातू रोड, रातू चट्टी, लटमा, कांके, अरसंडे, मंदार, तोरपा, घाघरा, कुडू, टाटीसिल्वे, नामकुम, पिठोरिया, नगड़ी और अन्य क्षेत्र हैं।

इन इलाकों में पांच घंटे तक बिजली कटौती की जाती है। बिजली संकट के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में बिजली कटौती का समय निर्धारित किया गया है।