Breaking :
||घास काटने गयी 50 वर्षीय महिला के साथ पुलिसकर्मियों ने की हैवानियत, गैंगरेप के बाद गुप्तांग पर पैरों से हमला||लातेहार: कठपुलिया लूट का चंद घंटों में खुलासा, चार लुटेरे हथियार व सामान के साथ गिरफ्तार||दुमका में फिर सनकी प्रेमी ने युवती को जिंदा जलाया, रिम्स पहुंचने से पहले हुई मौत||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख

पलामू पहुंची सीबीआई की टीम, बकोरिया एनकाउंटर की करेगी जांच

'

bakoria palamu news

पलामू : सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया में कथित मुठभेड़ की जांच के लिए सीबीआई की टीम एक बार फिर पलामू पहुंची है। बकोरिया एनकाउंटर मामले में सीबीआई ने 70 फीसदी जांच पूरी कर ली है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी पलामू पहुंचकर कई लोगों से पूछताछ करेंगे। सीबीआई की स्पेशल टीम चार्जशीट के लिए दस्तावेज तैयार कर रही है।

जानकारी के मुताबिक इस मामले में सीबीआई अब तक 350 से ज्यादा लोगों के बयान ले चुकी है।

आपको बता दें कि 8 जून 2015 की आधी रात को बकोरिया की भलवाही घाटी में कथित मुठभेड़ में 12 नक्सली मारे गए थे।

इसमें नक्सलियों का टॉप कमांडर आरके उर्फ ​​अनुराग, उसका बेटा और भतीजा भी शामिल था। कथित मुठभेड़ में चार नाबालिग, एक पारा शिक्षक और उसका भाई भी मारा गया था।

कथित पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारे गए 12 लोगों को पुलिस ने माओवादी कहा और अपनी पीठ थपथपाई। यह शर्मनाक है कि पुलिस ने इस मुठभेड़ के लिए इनाम भी बांटे। लेकिन कुछ ही दिनों में यह मुठभेड़ सवालों के घेरे में आ गई। तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास और डीजीपी डीके पांडे पर फर्जी एनकाउंटर करने का आरोप लगा था। काफी हंगामे के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई।

लेकिन साढ़े छह वर्ष बीत जाने के बाद भी मुठभेड़ में मारे गए लोगों के परिवारों को न्याय नहीं मिल पाया है। पुलिस जांच में पता चला कि इन 12 लोगों में डॉक्टर आरके उर्फ ​​अनुराग के अलावा किसी का भी नक्सली रिकॉर्ड नहीं था।

bakoria palamu news

https://thenewssense.in/category/latehar

https://www.facebook.com/newssenselatehar


Leave a Reply

Your email address will not be published.