Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरचंदवालातेहार

लातेहार के इस गांव में नहीं हो रही है लड़कों की शादी, वजह जान आप भी रह जाएंगे हैरान

लातेहार के चंदवा प्रखंड में एक ऐसा गांव है जहां लड़कों की शादी नहीं हो रही है। जी हां, आपको यह बात अजीब लग सकती है, लेकिन यह सच है। इतना ही नहीं इसके पीछे की वजह आपको हैरान करने वाली है।

इस गांव का नाम पडुवा हरिया है और यहां कोई अपनी लड़की नहीं देना चाहता। इसके पीछे का कारण है जंगली हाथी। इस वजह से इस गांव में कोई भी अपनी लड़की से शादी नहीं करना चाहता है।

इस गांव में कुछ सालों से हाथियों का ऐसा उपद्रव चल रहा है कि कई युवकों की शादी टूट चुकी है। बेटों की शादी टूटने से परेशान पडुवा के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से हाथियों से निजात दिलाने में मदद की गुहार लगाई है।

चकला निवासी सोमरा उरांव नाम के एक ग्रामीण ने बताया कि उसके बेटे की शादी तय हो गई थी। लेकिन, हाथियों ने इलाके में इतना दहशत पैदा कर दी कि आने वाली समधि ने बेटी की शादी से इनकार कर दिया।उन्होंने कहा कि उनकी बेटी यहां कैसे सुरक्षित रहेगी।

गांव के लोगों के मुताबिक पहाड़ों और जंगलों से घिरे गांवों में लगभग साल भर से हाथियों के हमले का सामना करना पड़ रहा है। हाथी न सिर्फ फसलों को रौंदते हैं बल्कि घरों में घुसकर उन्हें परेशान भी करते हैं। घर में रखे अनाज और तोड़फोड़ की। यहां लोग जंगली हाथी से काफी परेशान हैं।

शादी न होने से निराश राजेंद्र मुंडा नाम के युवक ने बताया कि उसकी शादी तय हो गई थी। दिन की तैयारी चल रही थी। तभी हाथियों ने फिर से गांव में हंगामा करना शुरू कर दिया जब लड़कियों को इस बात का पता चला तो उन्होंने तुरंत शादी के लिए मना कर दिया और लड़के की शादी टूट गई। ग्रामीणों ने बताया कि गजराज आधी रात के बाद आकर घरों में घुसकर फिर जंगल में चला जाता था।

हाथियों के भय से ग्रामीण खाद्य सामग्री व अन्य कीमती सामान ट्रेक्टर के द्वारा सुरक्षित स्थानों पर भेज रहे हैं। कई ग्रामीण तो गांव से पलायन का भी मन बना रहे हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *