Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में खूनी झड़प, गर्भवती महिला समेत तीन घायल

लातेहार : सदर थाना क्षेत्र के बेंदी पंचायत के जेर गांव में रविवार की शाम करीब चार बजे जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों के बीच खूनी झड़प हो गयी। जिसमें तीन लोग घायल हो गये।

Kidzee Latehar
Kidzee Latehar

घायलों में प्रथम पक्ष के मुकुल उराँव पिता पच्चू उराँव, 7 माह की गर्भवती लालमुनि देवी पति मुकेश उराँव शामिल हैं। जबकि दूसरे पक्ष में स्वर्गीय झूमा उराँव का पुत्र देबुल उराँव शामिल है। सभी घायलों का इलाज सदर अस्पताल लातेहार में कराया गया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस घटना में दोनों पक्षों के लोग लातेहार सदर थाना पहुंचे। थाना प्रभारी आशुतोष कुमार ने दोनों पक्षों की बातें सुनीं और निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। इस संबंध में कांड संख्या 142/23 एवं 143/23 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

प्रथम पक्ष से घायल मुकुल उराँव ने बताया कि मेरी पुश्तैनी जमीन खाता 71 प्लॉट 161 मेरे दादा स्वर्गीय हल्कानी उराँव के नाम से दर्ज है। मैं अपनी जमीन जोतने के लिए ट्रैक्टर लाया था। उसी समय अचानक देबुल उराँव, बिनेशर उराँव, जगतु उराँव, पिता स्वर्गीय पांडु उराँव, जोगन उराँव, भोला उराँव, जुनेश्वर उराँव सहित कई लोगों ने मुझ पर टांगी, लाठी-डंडे से हमला कर दिया। जिससे मेरा सिर फट गया और मैं बेहोश हो गया। परिजनों की सहायता से किसी तरह मुझे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसी विवाद में मेरे छोटे भाई की पत्नी, जो 7 माह की गर्भवती थी, के साथ भी मारपीट की गयी, जिससे लालमुनी देवी के पेट में गंभीर चोट आयी है। उसका इलाज भी सदर अस्पताल में कराया गया।

मुकुल ने बताया कि देबुल उराँव और जगतु उराँव ने टांगी से मेरे ऊपर हमला किया, जबकि जगतु उराँव सरकारी रेलवे कर्मचारी है। वह कभी अपना ऑफिस नहीं जाता। जगतू उराँव का बड़ा बेटा उमेश उराँव उसके बदले में काम करता है।