Breaking :
||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर||नहीं रहे कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव, दिल्ली एम्स में निधन, हार गए जिंदगी की जंग||बालूमाथ में राजद नेता पर जानलेवा हमला, गंभीर हालत में रिम्स रेफर

लातेहार: ट्रक की चपेट में आने से बाइक सवार पति की मौत पत्नी घायल, रिम्स रेफर

'

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र अंतर्गत गोनिया मुख्य मार्ग पुल के पास अनियंत्रित ट्रक की चपेट में आने से एक बाइक सवार दशरथ सिंह पिता स्व नंदकिशोर सिंह ग्राम गणेशपुर की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं उनकी पत्नी शकुंतला देवी का दाहिना पैर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। जिसे चिकित्सकों ने रिम्स रेफर कर दिया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

हालांकि घटना के बाद ग्रामीणों के सहयोग से दोनों को बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। जहां डॉक्टर अशोक ओड़िया द्वारा दशरथ सिंह को मृत घोषित कर दिया गया। जबकि शकुंतला देवी को प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए रांची रिम्स रेफर कर दिया गया।

इधर घटना की सूचना पर पहुंची बालूमाथ पुलिस ने मृतक दशरथ सिंह के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए लातेहार भेज दिया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

घटना के बारे में परिजनों ने बताया कि दशरथ सिंह अपनी पत्नी शकुंतला देवी के साथ गणेशपुर ग्राम से अपने ससुराल बानासाडी सिमरिया जा रहे थे। इसी दौरान गोनिया पल के पास विपरीत दिशा से आ रही ट्रक ने बाइक सवार को अपनी चपेट में ले लिया। जिससे धरत सिंह की मौके पर ही मौत हो गयी। मृतक अपने पीछे 4 पुत्री छोड़ गया है। घटना के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।