Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

मंत्री सत्यानंद भोक्ता का बड़ा ऐलान, झारखंड होगा सूखाग्रस्त घोषित..

'

विधानसभा सत्र में हेमंत सरकार कर सकती है घोषणा

चतरा : झारखंड सरकार के श्रम, योजना एवं प्रशिक्षण सह कौशल विकास मंत्री सत्यानंद भोगता ने कहा है कि झारखंड में बारिश से स्थिति भयावह है। बारिश नहीं होने के कारण पूरा राज्य इस समय सूखे की चपेट में है। हेमंत सोरेन सरकार ने सूखे से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। बहुत जल्द इसकी घोषणा की जाएगी। मंत्री सत्यानंद भोगता ने मंगलवार को चतरा में पत्रकारों से बातचीत में उक्त बातें कहीं।

मंत्री ने कहा कि कृषि अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। सरकार किसानों के हितों की रक्षा के लिए तैयार है। किसानों को पलायन नहीं करने दिया जाएगा। झारखंड के किसान बारिश की मदद से साल में एक बार ही धान की खेती कर पाते हैं। यही उनकी आजीविका का मुख्य साधन है। इस बार बारिश नहीं होने के कारण धान की खेती नहीं हो पा रही है। इसको लेकर किसान काफी परेशान हैं। इस समस्या को लेकर हेमंत सोरेन सरकार भी चिंतित है। सरकार किसानों की परेशानी समझ रही है। इसलिए सरकार जल्द ही झारखंड को सूखाग्रस्त राज्य घोषित करेगी।

मंत्री ने कहा कि सरकार प्राथमिकता के आधार पर समस्याओं का समाधान कर रही है. मौजूदा हालात में सबसे बड़ी चुनौती सूखे से निपटना है। वैसे पूरे राज्य में सामान्य से कम बारिश हो रही है। लेकिन उत्तरी छोटानागपुर और पलामू प्रमंडल में स्थिति सबसे खराब है। मंत्री ने कहा कि मानसून सत्र 28 जुलाई से शुरू हो रहा है। विधानसभा के इस सत्र में सरकार किसानों के लिए बड़ा ऐलान कर सकती है।