Breaking :
||लातेहार: पातम-डाटम जल प्रपात घूमने आये दो युवकों की नहाने के दौरान नदी में डूबने से मौत||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर||नहीं रहे कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव, दिल्ली एम्स में निधन, हार गए जिंदगी की जंग

माओवादियों की अपील, विश्व आदिवासी दिवस पर करें अत्याचार के खिलाफ संघर्ष

'

माओवादियों ने विश्व आदिवासी दिवस (9 अगस्त) पर आदिवासियों के जल, जंगल, जमीन, सशक्तीकरण के लिए संघर्ष को ऊंचा रखने और आदिवासियों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ संघर्ष करने का आह्वान किया है। इस संबंध में प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा-माओवादी की केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया है।

केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

जारी विज्ञप्ति में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर नए वन संरक्षण नियम के विरोध में दंडकारण्य और बिहार-झारखंड में आदिवासी लोगों के संघर्ष के समर्थन में कार्यक्रम आयोजित करने की अपील की गई है। अभय ने आरोप लगाया है कि केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासियों की जमीन उनसे छीनी जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

भाकपा-माओवादी केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने कहा है कि भाजपा ने ऐसे समय में ओडिशा की द्रौपदी मुर्मू को भारत का राष्ट्रपति बनाया है जब देश इसे खत्म करने की प्रक्रिया में है। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा के बाद भाजपा ने नया वन संरक्षण नियम अलोकतांत्रिक और संविधान के खिलाफ लाया।

आदिवासी जनता गिरिडीह जिले के पर्वतपुर गांव के पास, छत्तीसगढ़ राज्य के बिजानूर, सुकमा जिले के सिलिंगर और अन्य स्थानों पर लगाए गए पुलिस कैम्पों के खिलाफ लड़ रहे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासी लोगों की जमीनें छीनी जा रही हैं और यह प्रक्रिया देश के कई हिस्सों जैसे ओडिशा में नियमगिरी, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सुरजागढ़, छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में आमदई में की जा रही है। और झारखंड में अन्य स्थानों पर आदिवासी जनता को उनकी जमीन से वंचित किया जा रहा है।