Breaking :
||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली||रांची गैस दुकानदार को गोली मारने की घटना का पर्दाफाश, दो गिरफ्तार

एएनएम ने गर्भपात कराने के नाम पर मांगे 5 हजार रुपये, नहीं देने पर पेशेंट को दो घंटे अस्पताल में ही रोका

'

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के सेरेगड़ा निवासी नरेश शर्मा ने लातेहार उपायुक्त अबु इमरान को आवेदन देकर बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एएनएम रीना कुमारी पर गर्भपात कराने के एवज में 5 हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया है।

आवेदन में कहां है कि चिकित्सकों के सलाह पर मैं अपनी बेटी का गर्भपात कराने बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा। जहां ड्यूटी पर तैनात एएनएम रीना कुमारी प्रसव रूम के अंदर ले गई और अधूरा गर्भपात करने के बाद बाहर आकर कर बोली कि 5000 हजार रुपये दोगे तो पूरा करूंगी अन्यथा छोड़ दूँगी।

आनन-फानन में नरेश शर्मा ने 2 हजार रुपये एएनएम को दिया एवं 1 हजार रुपये और देने की आरजू विनती की।

गर्भपात कराने के बाद एएनएम ने मानवता को शर्मसार करते हुए 1 हजार रुपये की और मांग की। पैसा नहीं देने के एवज में पेशेंट को 2 घंटे अस्पताल में ही रोके रखा।

नरेश शर्मा इसकी शिकायत उपायुक्त को लिखित रूप से कर दी उपायुक्त के निर्देश पर जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने संज्ञान लेते हुए बालूमाथ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया को जांच कर अभिलंब जांच प्रतिवेदन सौंपने को कहा है।

इस संबंध में एएनएम रीना कुमारी ने कहा कि मुझे पेसेंट स्वेच्छा से 500 रुपये दिया था। मैंने पैसे की कोई मांग नहीं की।

वही प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया ने कहा कि जब मैं जांच करने पहुंचा तो मरीज अस्पताल से जा चुका था।

वहीं जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published.