Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: साक्ष्य के अभाव में 35 साल बाद रिहा हुए चर्चित जालिम नरसंहार के आरोपी

लातेहार जालिम नरसंहार

लातेहार : मिथिलेश कुमार प्रिंसिपल मजिस्ट्रेट जेजे बोर्ड ने चर्चित जालिम हत्याकांड के चार नाबालिग आरोपियों को साक्ष्य के अभाव में रिहा कर दिया है। जिसमें श्रीकांत सिंह, विजेंद्र सिंह, चंद्रदेव सिंह और अशोक सिंह शामिल हैं।

ज्ञात हो कि सदर थाना क्षेत्र के जालिम गांव में 23 मई 1988 को दो जातियों के बीच झड़प हुई थी, जिसने कुछ ही घंटों में नरसंहार का रूप ले लिया था। जिसमें दोनों पक्षों के कुल आठ लोगों की जान चली गयी थी। मामले की सुनवाई सत्र न्यायालय में चल रही थी। घटना में 40 आरोपियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा चल रहा था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

17 जून 2005 को, सत्र अदालत ने सभी अभियुक्तों को हत्या का दोषी पाया, जिनमें से चार अभियुक्तों ने फैसले के दिन किशोर होने का दावा किया। नाबालिगों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने मामले को ट्रायल के लिए किशोर न्याय बोर्ड को ट्रांसफर कर दिया था और 36 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुए जेल भेज दिया था।

किशोर घोषित अभियुक्तों ने किशोर न्याय बोर्ड में अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करायी, वर्षों इंतजार के बाद उन्हें फरार घोषित कर दिया गया। बाद में चारों आरोपियों ने किशोर न्याय बोर्ड के सामने आत्मसमर्पण कर दिया, मामले की स्पीडी ट्रायल करते हुए किशोर न्याय बोर्ड ने सुनवाई शुरू की।

आरोपित किशोर के अधिवक्ता सुनील कुमार ने बताया कि घटना के समय इन आरोपियों की उम्र 14 से 16 वर्ष के बीच थी। आज चारों आरोपियों की उम्र 50 साल से ऊपर है। अभियोजन पक्ष की ओर से कुल छह गवाहों को किशोर न्यायालय में पेश किया गया। बोर्ड ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद साक्ष्य के अभाव में सभी किशोरों को सम्मान सहित बरी कर दिया।

35 साल बाद बरी हुए किशोरों का कहना है कि उन्हें 35 साल बाद न्याय मिला है। उन्हें इस मामले में बेवजह फंसाया गया था। उन्हें कोर्ट पर पूरा भरोसा था।

लातेहार जालिम नरसंहार