Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

रांची : जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी (सीओ) हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ अब एसीबी (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) जांच करेगी। झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने इससे जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। यह मामला जामताड़ा जिले के मिहिजाम थाना अंतर्गत बुटकेरिया मौजा में अवैध रूप से जमीन की खरीद-फरोख्त से जुड़ा है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मिहिजाम थाना क्षेत्र के बुटकेरिया मौजा में जमीन की अवैध खरीद-बिक्री से संबंधित तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ मिहिजाम थाना कांड संख्या (47/2016) भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को स्थानांतरित करने का प्रस्ताव दिया है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस मामले में जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद, तत्कालीन अंचल निरीक्षक इस्माइल टुडू व अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की अनुमति देने का अनुरोध किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार जामताड़ा थाने में इस संबंध में धारा 420/406/409/468/471 व 120-बी के तहत कांड संख्या- 47/16 दर्ज किया गया है।

फरार होने की स्थिति में कुर्की जब्ती के निर्देश

प्रतिवेदन से स्पष्ट है कि इस प्रकरण के सभी नौ प्राथमिक अभियुक्तों के विरूद्ध प्रकरण को सत्य पाये जाने पर अविलम्ब गिरफ्तार करने एवं फरार होने की दशा में कुर्की की जब्ती हेतु कार्यवाही करने एवं स्वीकृति प्राप्त करने हेतु प्रतिवेदन प्रस्तुत करने हेतु उचित माध्यम से और पर्यवेक्षण में अभियोजन। लंबित अन्य निर्देशों का अनुपालन करने का निर्देश दिया गया है।