अच्छी खबर: बच्चों के लिए भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का ट्रायल करने की सिफारिश को मिली मंजूरी

कोरोना वैक्सीन से जुड़ी सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने मंगलवार को दो साल के बच्चों से लेकर 18 साल के युवाओं पर भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का ट्रायल करने की सिफारिश को मंजूरी दे दी गयी है. अभी भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच वैक्सीनेशन हो रहा है. हालांकि आशंका जताई गई है कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों पर भी प्रभाव पड़ सकता है. इसी को देखते हुए ट्रायल का निर्णय लिया गया है.

मिल रही जानकारी के अनुसार क्लीनिकल ट्रायल 525 लोगों दिल्ली एम्स, पटना एम्स, नागपुर के MIMS अस्पतालों में होगा. कमेटी की सिफारिशों के अनुसार भारत बायोटेक को फेज 3 का ट्रायल शुरू करने से पहले फेज 2 का डाटा उपलब्ध देना होगा.

बता दें कि SEC ने सिफारिश की थी कि भारत बायाटेक की कोवैक्सीन के फेज 2, फेज 3 के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है, जो कि 2 से 18 साल तक के बच्चों पर किया जायेगा.

भारत में अभी जिन दो वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है, वह सिर्फ 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को ही टीका लगाया जा रहा है. भारत में सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, भारत बायोटेक की कोवैक्सीन लोगों को लगायी जा रही है.

इधर, भारत सरकार के ही चीफ वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा था कि तीसरी लहर का आना निश्चित है और इसमें बच्चों पर ज्यादा असर हो सकता है.

Leave a Reply